होटल में फांसी के फंदे पर लटकता मिला पूर्व IAF कर्मी का शव

प्रयागराज – एक सेवानिवृत्त एयरफोर्सकर्मी ने खुल्दाबाद स्थित होटल में शनिवार रात आत्महत्या कर ली. पुलिस की जाँच में मृतक असम के दरंगा जिला के शांतिपुर का पूर्व सैन्यकर्मी बिजन दास है. बिजन दास 2002 में एयरफोर्स से कारपोरल पद से रिटायर हुए थे. पुलिस ने को मौके से एक सुसाइड नोट बरामद किया है. सुसाइड नोट में वह अपने परिवार और बेटे के लिए कुछ न कर पाने की वजह से तनाव में था. पूर्व सैन्यकर्मी ने सुसाइड नोट में प्रधानमंत्री मोदी से बेटे की मदद करने की गुहार लगाई है. खुल्दाबाद पुलिस ने परिवार वालों को सूचना देदने के बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है. 

पुलिस की पूछताछ में जानकारी मिली की बीजन शनिवार रात करीब 11 बजे होटल पहुंचे थे , दोपहर काफी देर तक जब वह बाहर नहीं निकले तो होटल के एक कर्मचारी ने आवाज लगाई, लेकिन कोई जवाब नहीं मिला. इसके बाद कूलर के लिए बनी जाली से झांककर देखा गया तो उनका शव फांसी पर लटका दिखाई दिया. इसकी सूचना कर्मचारियों ने पुलिस दी. मौके पर पहुंची पुलिस ने जांच पड़ताल के दौरान कपड़ों से मिले दस्तावेजों के आधार पर उनकी शिनाख्त की. इसके बाद पास ही पड़े मोबाइल के जरिए घरवालों को सूचना दी गई.

कोलकाता जा रहे थे मृतक बिजन दास

मृतक के परिजनों ने बताया कि वह कोलकाता जाने की बात कहकर घर से निकले थे. पत्नी बेबी दास ने बताया कि शनिवार दोपहर उनकी फोन पर पति से बात हुई थी. उन्होंने बताया कि वह अपनी बिहार में रहने वाली बहन रीता के पास जाने के लिए दूसरी ट्रेन पर बैठ गए हैं. शाम को फिर फोन मिलाया तो उनका फोन बंद मिला. शाम को उनकी मौत की खबर मिली. मृतक का 19 साल का एक बेटा विवेक दास है, जो सिंगिंग रियलिटी शो में भी भाग ले चुका है।

आर्थिक मंदी के लिए चिदंबरम जिम्मेदार

पांच पन्नों के सुसाइड नोट में मृतक बिजन दास ने देश की वर्तमान आर्थिक स्थिति के लिए पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम को जिम्मेदार ठहराया है. उसने लिखा है कि मंदी के लिए मोदी सरकार को दोषी नहीं ठहराया जा सकता है. घोटाले और वित्तीय कुप्रबंधन के लिए यूपीए सरकार को दोषी ठहराते हुए, बिजन दास ने कहा है कि मंदी के कारण वह सेवानिवृत्ति के बाद कुछ भी नही कर सके. करने में विफल रहे हैं. आर्थिक मंदी के लिए अकेले मोदी सरकार को दोषी ठहराना पूरी तरह से गलत है. आईएनएक्स मीडिया मामले में चिदंबरम की गिरफ्तारी के बारे में बिजन दास ने कुछ लिखा है. कोयला, टूजी स्पेक्ट्रम समेत कई घोटालों के जरिए करोड़ों रुपये का गोलमाल हुआ. इसमें किसी को दोषी ठहराया नहीं गया है, जबकि सबको पता है कि बड़ा घोटाला हुआ है.

पुलिस को मौके पर मिला सुसाइड नोट का अंश

Share this post.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *